उल्फत में अक्सर ऐसा होता है;


Kejriwal is like Rakhi Sawant: Digvijay! आँखे हंसती हैं और दिल रोता है;


मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी;


हमसफर उनका कोई और होता है!

Post a Comment Disqus

 
Top